सोफ़िया

~ऋचा नागर (1994) Muddying the Waters: Coauthoring Feminisms Across Scholarship & Activism (2014) में पुनर्प्रकाशित

अक्टूबर 1994

मेरे दार अस्सलाम शहर

छोड़ने के

नौ महीनों बाद

चिट्ठी आई परीन की

आख़िरी लाइन में

लिखा था उसने

सोफ़िया 

को तुम्हारा सलाम

नहीं दे सकी

सोफ़िया तो तुम्हारे जाने के

एकाध माह बाद ही

गुज़र गई थी

उसके पेट का बच्चा भी

एड्स का केस था

 

कैसे

मर गई सोफ़िया?

वो तो अभी

सत्रह की भी नहीं थी

 

वो तो रोज़ाना

पेट के भीतर बच्चा लादे

पैदल आती जाती थी

मागोमेनी से किसूटू तक

शहर के काले हिस्से से

शहर के भूरे हिस्से तक

 

वो ही सोफ़िया 

जिसे बात बात में

ख़ुराफ़ात सूझती थी

जो किस्वाहिली में

मेरी ग़लतियां सुनकर

जो़रज़ोर से

हँसती थी

जो मुझे कालीभूरी

चमड़ियों के रिश्तों के

अनेकों भेद बताती थी

जिसे मेरा अपने शोध को

कामकहना

दुनिया का सबसे

बेहतरीन

मज़ाक़ लगता था

 

वो ही सोफ़िया 

जो कहती थी

कि उसे

अपने बच्चे की

परवरिश

के लिये

एक भी बाप की

ज़रूरत नहीं

( अपने

बच्चे के)

 

कैसे मर गई सोफ़िया 

अपने अन्जन्में बच्चे के

साथ ही?

वो तो अभी

सत्रह की भी नहीं थी?

css.php